PRAYAGRAJ EXPRESS
News Portal

NEET 2024 Row : हाई कोर्ट ने खारिज की आयुषी पटेल की याचिका, खुद छात्रा ने किया था अनुरोध, जानें वजह

51

लखनऊ. राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (स्नातक) या NEET 2024 को लेकर लखनऊ की छात्रा आयुषी पटेल ने गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए हाई कोर्ट में एक याचिका दाखिल की थी. इसमें छात्रा ने अपनी ओएमआर शीट के मैनुअल मूल्यांकन की मांग की थी. एनटीए के खिलाफ जांच का आदेश देने की मांग और नीट काउंसिलिंग पर रोक लगाने की मांग की गई थी. अब 18 जून को हुई सुनवाई में इसी छात्रा के अनुरोध को स्वीकार करते हुए हाईकोर्ट लखनऊ बेंच ने छात्रा की याचिका खारिज़ की.

जानकारी के अनुसार नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने हाईकोर्ट में आयुषी के मूल दस्तावेज पेश किए. एनटीए की ओर से पेश दस्तावेज के आधार पर हाईकोर्ट ने छात्रा की याचिका को फर्जी दस्तावेजों पर दाखिल होना पाया और फर्जी दस्तावेजों के आधार पर दाखिल याचिका को अफसोसजनक माना. हाईकोर्ट ने कहा इस मामले में कार्यवाही करने के लिए एनटीए स्वतंत्र है. याचिका के मुताबिक फटी ओएमआर के कारण छात्रा का परिणाम घोषित नहीं किया गया. इससे पहले छात्रा ने याचिका दाखिल कर अपनी ओएमआर शीट के मैनुअल मूल्यांकन की मांग की थी. साथ ही एनटीए के खिलाफ जांच का आदेश और नीट काउंसिलिंग पर रोक लगाने की मांग की गई थी.

वायरल हुआ था आयुषी का वीडियो, एनटीए ने बता दी थी सच्चाई
NEET की तीसरी बार परीक्षा देने वाली आयुषी ने एनटीए को फ्रॉड बताते हुए एक वीडियो पोस्‍ट किया था और यह जब वायरल हुआ तो नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ओर से उन्हें बताया गया कि उनका जो एप्लीकेशन नंबर है वो 240411840741 नहीं है. बताया गया कि इन्होंने नंबर गलत डाला है. आयुषी पटेल की एप्लीकेशन नंबर 840 की जगह 340 है. ऐसे में जब आयुषी पटेल ने एप्लीकेशन के नंबर में 340 डाला तो उनका रिजल्ट आ गया. इसमें करीब 300 के ऊपर नंबर आ रहे हैं. जबकि इसके पहले 715 नंबर आ रहे थे.

हाई कोर्ट में याचिका दाखिल पर एनटीए ने दिया जवाब, पेश किए सबूत
ऐसे में यह देखकर आयुषी पटेल का दिमाग पूरी तरह से चकरा गया और उन्हें समझ में नहीं आया कि यह क्या हो रहा है. अब आयुषी पटेल का नेशनल टेस्टिंग एजेंसी पर यह आरोप है कि यह कोई बड़ा घोटाला हो रहा है. हर जगह पर 840 ही नंबर था. अब अचानक 340 करके उनके रिजल्ट को जनरेट किया गया है. हालांकि, आयुषी पटेल ने बताया कि हाईकोर्ट में याचिका डाल दी गई थी. इसके बाद हाई कोर्ट में एनटीए ने दस्‍तावेज, सबूत और दलील पेश करते हुए अपना पक्ष रखा था.

Tags: Allahbad excessive courtroom, High courtroom, NEET, Neet examination, Petition dismissed

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More