PRAYAGRAJ EXPRESS
News Portal

नहर के पास पुलिस ने रुकवाई कार, ड्राइवर बोला- SOG से हूं, पूरी टीम अंदर बैठी है’, फिर जो हुआ…

30

बुलंदशहर. उत्तर प्रदेश के जनपद बुलंदशहर में थाना कोतवाली नगर पुलिस ने मुठभेड़ के बाद पुलिस की फर्जी एसओजी टीम को गिरफ्तार किया है. आरोपी पुलिस की फर्जी एसओजी टीम बनाकर लोगों से लूटपाट करते थे. अब असली पुलिस ने इस फर्जी पुलिस की एसओजी टीम को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने निशांत, मोनू और शिवम को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस में इनके कब्जे से लूट के 15 हजार रुपये, 2 अवैध तमंचे, भारी मात्रा में कारतूस, 1 अपाची मोटरसाइकिल और एक सेंट्रो कार भी बरामद की है. बुलंदशहर थाना कोतवाली नगर पुलिस को सूचना मिली थी कि कोतवाली नगर क्षेत्र में हारिस और अमन नाम के युवक को बंधक बनाकर पुलिस की फर्जी एसओजी टीम ने मारपीट करते हुए लूटपाट की घटना को अंजाम दिया था. पीड़ित युवकों की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपियों की तलाश शुरू कर दी और मुठभेड़ में पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

बुलंदशहर के एसपी सिटी शंकर प्रसाद ने बताया कि कोतवाली नगर क्षेत्र में दो युवकों के साथ एसओजी टीम बनकर कुछ बदमाशों ने मारपीट करते हुए लूटपाट की घटना को अंजाम दिया था. पीड़ित युवकों की तहरीर पर थाना कोतवाली नगर में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शरू की गई. पुलिस ने सूचना के आधार पर कोतवाली नगर क्षेत्र के नहर के पास से मुठभेड़ के बाद तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. आरोपियों के पास से पुलिस में अवैध असलाह, कारतूस, एक अपाची मोटरसाइकिल, एक सेंट्रो कार, तीन मोबाइल फोन व लूटे गए 15100 रुपये बरामद किए गए हैं. फिलहाल सभी तीनों आरोपियों को जेल भेजा जा रहा है.

गश्त पर थी GRP, अचानक रेलवे स्टेशन पर दिखीं 16 लड़कियां, पूछताछ में सामने आया चौंकाने वाला सच

फर्जी एसओजी ने ऐसे लूटा था युवकों को
फर्जी एसओजी टीम ने दोनों पीड़ित युवक से कहा कि ‘आपने सलमान खान पर फायरिंग कराई है. दोनों युवकों ने इनकार कर दिया तो उनके साथ मारपीट की. फिर बुलंदशहर जनपद में पूछा कि कहां-कहां लूट और चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया है. दोनों ही युवक ने मना कर दिया.’ फिर से उनके साथ मारपीट की. फिर दोनों युवक से मोबाइल छीनकर अपने नंबर पर पैसे ऑनलाइन ट्रांसफर कर लिए और दोनों ही युवकों के परिजन से 30 हजार की नगदी भी मंगाई. दोनों युवकों को सड़क किनारे छोड़कर फर्जी एसओजी टीम फरार हो गई.

किराए पर लेते थे बैंक अकाउंट, घूमते थे कार में, पुलिस ने पकड़ा, सुनाई काली कमाई की ऐसी कहानी, दंग रह गए अधिकारी

इसकी जानकारी दोनों पीड़ित युवकों ने स्थानीय पुलिस को दी. पीड़ित युवकों ने पेटीएम नंबर और गाड़ी के नंबर बताए. पुलिस ने फर्जी पुलिस को ट्रैक किया. इसके बाद असली पुलिस का फर्जी पुलिस से आमना-सामना हो गया. जब पुलिस ने कार को रुकवाया तो ड्राइवर ने कहा कि वह एसओजी टीम से है. पूरी टीम अंदर बैठी है. फिर कहा कि वह 2015 बैच के सब इंस्पेक्टर हैं. पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो पता चला कि वह फर्जी पुलिसकर्मी बन लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं और लूट की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं.

Tags: Ajab Gajab information, Bulandshahr information, Shocking information, UP information

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More