PRAYAGRAJ EXPRESS
News Portal

गरीब बच्चे पढ़ लेंगे, कबाड़ीवाले को न बेचें पुरानी किताब! पहल की हो रही तारीफ

37

सुमित राजपूत/नोएडा. आज शिक्षा और शिक्षा के मंदिर इतने महंगे हो चले हैं कि गरीब बच्चे किताबें खरीदने तक के पैसे नहीं जुटा पाते. निजी स्कूल में एडमिशन लेना तो दूर, हजारों बच्चे किताबें न होने के कारण शिक्षा से महरूम रह जाते हैं. इन्हीं बच्चो की खातिर नोएडा की रहने वाली इंद्राणी मुखर्जी, हाईराइज सोसाइटी से पुरानी बुक्स का कलेक्शन कर गरीब बच्चो में बांटती हैं. उनका मानना है कि एक तो किसी के घर में बेकार पड़ी बुक किसी के काम आ जाएगी और दूसरा जब हम नई बुक बनाते हैं, तो इसके लिए पेड़ों की कटाई होती है और पर्यावरण पर असर पड़ता है.

इंद्राणी मुखर्जी ने लोकल18 से बातचीत में कहा कि गरीब और मलिन बस्तियों में रहने वाले बच्चों के लिए यह काम वह पांच साल से कर रही हैं. हाईराइज सोसाइटी से बुक्स कलेक्ट करके 300 से 400 बच्चों को हर साल बांटती हैं. नर्सरी से लेकर क्लास 12 तक के बच्चों को वह किताबें उपलब्ध कराती हैं. उनका कहना है कि जो बच्चा किसी क्लास को पास करके आगे बढ़ गया और उसके घर में छोटे-भाई बहन नहीं हैं, तो पुरानी कक्षा की किताबें घर में बेकार पड़ी रहती हैं. इन किताबों को कलेक्ट करके हर साल सेशन शुरू होते ही हम कुछ एनजीओ के माध्यम से गरीब बच्चों तक पंहुचाते हैं.

घर तक पहुंचाते हैं फ्री बुक्स
इस साल भी इंद्राणी मुखर्जी और उनकी टीम ने करीब 20 से 25 हाईराइज सोसाइटी से पुरानी किताबें कलेक्ट की हैं. ये किताबें गरीब बच्चों के बीच बांटी जा रही हैं. इंद्राणी ने लोकल18 से बातचीत में कहा कि गरीब या मलिन बस्ती में रहने वाले किसी छात्र को अगर किताबों की जरूरत हो तो वो 99107 06460 नंबर पर कॉल करके हमसे संपर्क कर सकता है. हम खुद उसके घर तक उसके जरूरत की बुक्स पहुंचा देंगे.

Tags: Books, Local18, Noida information

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More