PRAYAGRAJ EXPRESS
News Portal

दिल्ली दंगों की चार्जशीट न्याय प्रणाली का उपहास-पी. चितम्बरम

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा है कि उनकी पार्टी इस मुद्दे को दोनों सदनों में उठाएगी।

18,887

नई दिल्ली। पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि दिल्ली दंगों के मामले में दिल्ली पुलिस द्वारा एक अभियुक्त के खुलासे पर दाखिल की गई पूरक चार्जशीट में सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी, स्वराज अभियान के योगेन्द्र यादव और अन्य विद्वानों के नामों का उल्लेख करना आपराधिक न्याय प्रणाली का “उपहास” है। चिदंबरम ने कहा, “क्या दिल्ली पुलिस यह भूल गई है कि सूचना और चार्जशीट के बीच महत्वपूर्ण कदम भी होते हैं, जिन्हें जांच और पुष्टिकरण कहा जाता?”

पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री चिदंबरम ने ट्वीट कर लिखा, “दिल्ली पुलिस ने दिल्ली दंगों के मामले में एक पूरक आरोप पत्र में सीताराम येचुरी और कई अन्य विद्वानों और कार्यकर्ताओं का नाम लेते हुए आपराधिक न्याय प्रणाली का उपहास उड़ाया है।” बता दें कि सीएए और नेशनल रजिस्टर या सिटिजन्स या एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के हफ्तों के बाद फरवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा में 50 से अधिक लोग मारे गए और सैकड़ों घायल हुए।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने जाफराबाद में हुई हिंसा के मामले में FIR No। 50/20 में देवांगना कलिता,नताशा नरवाल ,गुलफिशा फातिमा के खिलाफ सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर की है। चार्जेशीट में इन लोगों को आरोपी बनाया गया है। लेकिन इन्होंने अपने बयान में प्रोफेसर अपूर्वानंद ,योगेंद्र यादव ,सीताराम येचुरी ,डॉक्यूमेंट्री फिल्मकार राहुल रॉय ,इकोनॉमिस्ट जयती घोष,एमएलए मतीन अहमद ,अमानतुल्लाह खान,उमर खालिद का नाम भी लिया है।

83%
Awesome

कृपया पाठक अपनी पसंद के अनुसार समाचार को रेटिंग दें।

  • NEWS
  • CONTENT
  • Design
Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More